MS DHONI ने वर्ल्ड कप फाइनल से पहले वीरेंद्र सहवाग को लेकर बोला था ‘झूठ’, भारतीय ओपनर ने सुनाया था मजेदार किस्सा

भारत ने फाइनल मुकाबले में पाकिस्तान को 5 रन से हरा दिया था। भारत ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 5 विकेट पर 157 रन बनाए थे। जवाब में पाकिस्तान की टीम 152 रन ही बना सकी थी।

MS Dhoni, Virender Sehwag

भारत के पूर्व दिग्गज महेंद्र सिंह धोनी को दुनिया के सबसे धैर्यवान और चालाक कप्तानों में गिना जाता है। उन्होंने पिछले साल अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले लिया था, लेकिन वे आईपीएल में चेन्नई सुपरकिंग्स की कप्तानी कर रहे हैं। धोनी को 2007 में पहली बार टीम इंडिया का कप्तान नियुक्त किया गया था। तब भारत ने पहला टी20 वर्ल्ड कप अपने नाम किया था। उसने फाइनल में पाकिस्तान को हराया था। खिताबी मुकाबले से ठीक पहले धोनी ने विस्फोटक ओपनर वीरेंद्र सहवाग को लेकर मीडिया में ‘झूठ’ बोला था।

दरअसल, सहवाग फाइनल से ठीक पहले अनफिट हो गए थे। धोनी ने मैच से पहले प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया भी नहीं था कि सहवाग प्लेइंग-11 का हिस्सा नहीं होंगे। वे विपक्षी से माइंडगेम खेल रहे थे। ‘वीयू इंडिया’ यूट्यूब चैनल के शो क्रिकेट डायरीज में सहवाग ने अभिनेता अपारशक्ति खुराना को दिए इंटरव्यू में इस बारे में विस्तार से बताया था। तब इरफान पठान और आरपी सिंह (रूद्र प्रताप सिंह) भी वहां मौजूद थे। सहवाग ने कहा, ‘‘मैं बहुत दुखी था। वह लम्हा शायद ही कोई खिलाड़ी मिस करना चाहता हो।’’

सहवाग ने इसके आगे कहा, ‘‘मैंने पूरी कोशिश की। मैं लगातार 48 घंटे तक लगातार बर्फ लगाई। हर आधे या एक घंटे बाद बर्फ मैं बर्फ लगातार रहा था अपनी चोट पर। मैं मैच के लिए तैयार होना चाहता था। इजेंक्शन लिया। इसके बाद भी वह दर्द नहीं गया। दौड़कर देखा तो उस दौरान दर्द हो रहा था। नियम यह था कि आप पहले चोटिल हो चुके हो और मैच खेल रहे हो, फिर मैच के दौरान कहीं दर्द हुआ तो एक्स्ट्रा फील्डर या रनर नहीं मिल सकता है।’’

सहवाग ने इसके आगे कहा, ‘‘चोट के बावजूद खेलता तो यह यह स्वार्थ हो जाता कि अपने लिए वर्ल्ड कप खेल लूं ना कि टीम के लिए। फिर मैंने धोनी को पता दिया कि भाई मैं नहीं खेल सकता हूं। इसके बाद ही यूसुफ पठान को मौका मिला था।’’ भारत ने फाइनल मुकाबले में पाकिस्तान को 5 रन से हरा दिया था। भारत ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 5 विकेट पर 157 रन बनाए थे। जवाब में पाकिस्तान की टीम 152 रन ही बना सकी थी।