PM ने कोरोना संकट पर CM को लगाया फोन, कॉल के बाद बोले सोरेन- बेहतर होता कि “काम की बात” भी करते और सुनते

सोरेन पिछले कुछ वक्त में मोदी सरकार के काम करने के तौर-तरीकों और रणनीतियों (कोरोना संकट के दौरान प्रवासी मजदूरों के पलायन का मुद्दा भी शामिल) को लेकर आलोचनात्मक रहे हैं। सूत्रों ने कहा कि यही कारण हो सकता है कि केंद्र की घोषणाओं में झारखंड की अनदेखी की गई हो।

Author Abhishek Angad Edited By अभिषेक गुप्ता रांची | Updated: May 7, 2021 8:17 AM
Coronavirus, Narendra Modi, Hemant Soren

झारखंड में मौजूदा कोरोना संकट की स्थिति जानने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को वहां के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से बात की। फोन पर हुई बातचीत के कुछ घंटों बाद सीएम ने आरोप लगाया कि पीएम ने उनकी बात सुनी ही नहीं। बातचीत किसी अकेले व्यक्ति के लंबे भाषण जैसी थी।

हालांकि, बातचीत के बारे में विस्तार से तो नहीं पता चल पाया पर सीएम सोरेन ने रात को ट्वीट किया था, “आरदरणीय प्रधानमंत्री ने फोन किया। उन्होंने सिर्फ अपने मन की बात की। बेहतर होता कि अगर वह काम की बात करते और काम की बात सुनते।” मुख्यमंत्री के करीबी सूत्रों ने हमारे सहयोगी अखबार “The Indian Express” को बताया, “झारखंड सीएम का गुस्सा महसूस किया जा सकता था।” सूत्र ने आगे जानकारी दी, “पीएम मोदी ने उनसे राज्य की स्थिति, संसाधनों और क्या सूबे को जरूरत है, इस पर कुछ भी नहीं पूछा, जबकि असल में झारखंड जरूरी दवाइयां पाने के लिए संघर्ष कर रहा है। वह बस बोलते रहे और बोलते रहे। यही वजह थी कि सीएम ने ट्वीट किया।”

वैसे, सोरेन को इस ट्वीट के चलते BJP नेताओं की कड़ी निंदा का सामना करना पड़ा। असम के बीजेपी नेता हिमंत बिस्वा सरमा ने इसे “अपमानजनक” करार दिया। कहा कि इसने सीएम दफ्तर पर “कलंक लगाया” और राज्य के लोगों की बेइज्जती की।

बता दें कि सोरेन पिछले कुछ वक्त में मोदी सरकार के काम करने के तौर-तरीकों और रणनीतियों (कोरोना संकट के दौरान प्रवासी मजदूरों के पलायन का मुद्दा भी शामिल) को लेकर आलोचनात्मक रहे हैं। सूत्रों ने कहा कि यही कारण हो सकता है कि केंद्र की घोषणाओं में झारखंड की अनदेखी की गई हो। केंद्र ने तीन मई, 2021 को देश भर के 581 जन स्वास्थ्य केंद्रों पर एडिश्नल प्रेशर स्विंग एडसॉर्पशन मेडिकल ऑक्सीजन जेनरेशन प्लांट्स लगाने का फैसला लिया था, ताकि आसानी से जगह-जगह ऑक्सीजन मिल सके। सूत्रों ने बताया कि झारखंड इस लिस्ट में नहीं था।

झारखंड में कोरोना से 1 दिन में 141 लोगों की मौत: झारखंड में पिछले 24 घंटों में कोरोना वायरस संक्रमण से 141 और लोगों की मौत हो गयी जिसके बाद इस संक्रमण से मरने वालों की कुल संख्या 3346 हो गयी। स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी रिपोर्ट में इसकी जानकारी दी गयी है। रिपोर्ट में कहा गया है कि प्रदेश में संक्रमण के 5770 नये मामले सामने आये जिसके बाद राज्य में कोरोना संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 263115 हो गयी। राज्य के 263115 संक्रमितों में से 200237 अब तक संक्रमण मुक्त हो चुके हैं। प्रदेश में उपचाराधीन मरीजों की संख्या 5770 है।

PM ने 4 सूबों, दो उपराज्यपालों से की बातः पीएम मोदी ने गुरुवार को झारखंड के अलावा आंध्र प्रदेश, ओड़िशा और तेलंगाना के मुख्यमंत्रियों से बात की व इन राज्यों में कोविड-19 की ताजा स्थिति पर चर्चा की। सरकारी सूत्रों ने साथ ही बताया कि प्रधानमंत्री ने जम्मू एवं कश्मीर के साथ ही पुडुचेरी के उपराज्यपालों से भी बात की। हालांकि, बैठक में क्या चर्चा हुई? इस बारे में आधिकारिक तौर पर कोई जानकारी नहीं दी गई। प्रधानमंत्री की इन राज्यों के मुख्यमंत्रियों व केंद्र शासित प्रदेशों के उपराज्यपालों से चर्चा से पहले एक उच्च स्तरीय बैठक की थी जिसमें उन्होंने विभिन्‍न राज्‍यों और जिलों में कोविड की स्थिति की समीक्षा की। इस बैठक में प्रधानमंत्री को उन जिलों के बारे में भी बताया गया जहां महामारी का ज्‍यादा प्रकोप है।