RS उपचुनाव: मोदी सरकार में मंत्री सोनोवाल असम से उम्मीदवार, MP में इन्हें दिया मौका; कांग्रेस नहीं उतारेगी कैंडिडेट

मध्यप्रदेश, असम, पश्चिम बंगाल, महाराष्ट्र और तमिलनाडु की खाली हुई राज्यसभा सीटों के लिए 4 अक्टूबर को वोटिंग होगी।

भाजपा ने राज्यसभा उपचुनावों के लिए केंद्रीय मंत्री सर्बानंद सोनोवाल और राज्य मंत्री एल मुरुगन को उम्मीदवार घोषित किया है। (एक्सप्रेस फोटो/ पीटीआई)

राज्यसभा की खाली हुई सीटों पर हो रहे उपचुनाव के लिए भारतीय जनता पार्टी ने अपने उम्मीदवार की घोषणा कर दी है। बीजेपी ने असम से केंद्रीय मंत्री सर्बानंद सोनोवाल और मध्यप्रदेश से केंद्रीय राज्यमंत्री एल मुरुगन को अपना उम्मीदवार बनाया है। वहीं कांग्रेस ने मध्यप्रदेश की खाली हुई राज्यसभा सीट के लिए उम्मीदवार नहीं उतारने का फैसला किया है। उम्मीदवार नहीं उतारने की स्थिति में भाजपा के विधायकों की संख्या ज्यादा होने के कारण एल मुरुगन इस सीट से चुन लिए जायेंगे।

शनिवार को भाजपा ने राज्यसभा उपचुनावों के लिए केंद्रीय मंत्रियों सर्बानंद सोनोवाल और एल मुरुगन को असम तथा मध्य प्रदेश से अपना उम्मीदवार घोषित किया। इन दोनों मंत्रियों को बीते जुलाई महीने में हुए मंत्रिमंडल विस्तार में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने मंत्रिपरिषद में शामिल किया था। दोनों मंत्री वर्तमान में किसी भी सदन के सदस्य नहीं है। इसलिए उन्हें मंत्री बने रहने के लिए छह महीने के अंदर संसद सदस्य बनना होगा। सोनोवाल और मुरुगन का राज्यसभा में आना लगभग तय है क्योंकि भाजपा को दोनों राज्यों की विधानसभा में बहुमत प्राप्त है।

वहीं मध्यप्रदेश कोटे से राज्यसभा सांसद थावरचंद गहलोत को कर्नाटक का राज्यपाल बनाए जाने के बाद हुई खाली सीट पर हो रहे उपचुनाव में कांग्रेस ने अपना उम्मीदवार नहीं उतारने का फैसला किया है। दैनिक भास्कर की रिपोर्ट के अनुसार प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष चंद्रप्रभाष शेखर ने कहा कि पार्टी ने यह निर्णय लिया है कि कांग्रेस पार्टी राज्यसभा उपचुनाव में अपना उम्मीदवार नहीं उतारेगी। कहा जा रहा है कि विधायकों की संख्या कम होने की वजह से ही कांग्रेस ने यह फैसला लिया है।

चुनाव आयोग ने मध्यप्रदेश, असम, पश्चिम बंगाल, महाराष्ट्र और तमिलनाडु की खाली हुई राज्यसभा सीटों पर 4 अक्टूबर को उपचुनाव कराने का निर्णय लिया है। मध्यप्रदेश कोटे से राज्यसभा सदस्य थावरचंद गहलोत, असम से सांसद विश्वजीत डमरे, पश्चिम बंगाल से राज्यसभा सांसद मानस रंजन भुनिया और तमिलनाडु से राज्यसभा सदस्य केपी मुनुस्वामी और आर वैथीलिंगम के इस्तीफे के बाद कुल छह सीट खाली हुई है। वहीं महाराष्ट्र से राज्यसभा सदस्य रहे राजीव साटव के निधन के बाद भी एक सीट खाली हुई है।

उम्मीदवार इन सीटों के लिए 22 सितंबर तक अपना नामांकन दर्ज करा सकेंगे और 27 सितंबर तक उम्मीदवार अपने नामांकन को वापस ले सकेंगे। 4 अक्टूबर को शाम 4 बजे तक खाली हुई सीटों के लिए वोटिंग होगी और 5 बजे तक परिणाम घोषित कर दिए जाएंगे।