Tokyo Paralympics: नोएडा के डीएम को पहले ही मैच में मिली जीत, सुहास एलवाई ने जर्मनी के खिलाड़ी को सीधे सेटों में दी मात

टोक्यो पैरालंपिक में गुरुवार को भारतीय पैरा शटलर और गौतमबुद्ध नगर के डीएम सुहास एलवाई ने बैडमिंटन में पुरुष सिंगल्स के एसएल-4 मुकाबले में अपनी पहली जीत दर्ज की। उन्होंने जर्मनी के खिलाड़ी निकलास जे पॉट को 21-9 और 21-3 से हराकर आसानी से अगले राउंड में जगह बनाई।

tokyo-paralympics-suhas-ly-noida-dm-registers-first-win-in-badminton-even-beats-german-player-in-straight-sets टोक्यो पैरालंपिक में नोएडा के डीएम सुहास एलवाई का जीत से आगाज (Source: Twitter)

टोक्यो पैरालंपिक में गुरुवार को भारतीय शटलर ने अपने अभियान की शुरुआत की। इसी कड़ी में गौतमबुद्ध नगर के डीएम सुहास एलवाई ने बैडमिंटन में पुरुष सिंगल्स के एसएल-4 मुकाबले में अपनी पहली जीत दर्ज की। उन्होंने जर्मनी के खिलाड़ी निकलास जे पॉट 2-0 से सीधे सेटों में हराया।

पहले मैच में ही सुहास एल यथिराज ने शानदार प्रदर्शन करते हुए टूर्नामेंट में अपनी पहली जीत दर्ज की। वर्ल्ड रैंकिंग में नंबर तीन पर काबिज यथिराज ने जे पॉट को 21-9 और 21-3 से हराकर आसानी से अगले राउंड में जगह बनाई।

अब सुहास एलवाई का मुकाबला शुक्रवार को इंडोनेशिया के हैरी सुसंन्तो से होगा। उनकी टोक्यो पैरालंपिक में पहली जीत के बाद भारत में तो खुशी का माहौल है ही वहीं खासतौर पर उनके जिले गौतमबुद्धनगर (नोएडा) में भी जश्न का माहौल है।

यथिराज की इस जीत से नोएडा और ग्रेटर नोएडा के लोगों में खुशी की लहर दौड़ पड़ी है। लोगों का कहना है कि “सुहास एलवाई जरूर गोल्ड मेडल लेकर आएंगे।”

गौरतलब है कि डीएम सुहास एलवाई इससे पहले भी कई मेडल अपने नाम कर चुके हैं। वे दुनिया के नंबर-3 बैडमिंटन खिलाड़ी हैं। उन्होंने मार्च 2018 में वाराणसी में आयोजित हुई दूसरी राष्ट्रीय पैरा बैडमिंटन चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीतकर नेशनल चैंपियन का खिताब हासिल किया था।

2016 में बीजिंग में हुए एशियाई पैरा बैडमिंटन चैंपियनशिप में वह एक पेशेवर अंतरराष्ट्रीय बैडमिंटन चैंपियनशिप जीतने वाले पहले भारतीय नौकरशाह बने। उस समय वह आजमगढ़ के जिलाधिकारी के रूप में कार्यरत थे। उन्होंने इस टूर्नामेंट में स्वर्ण पदक जीतकर पूरी दुनिया में भारत का और अपना नाम किया।

सुहास लालिनकेरे यथिराज एक भारतीय पेशेवर पैरा-बैडमिंटन खिलाड़ी के साथ-साथ वर्ष 2007 बैच के आईएएस अफसर भी हैं। गौतमबुद्धनगर के जिलाधिकारी के रूप में वे करीब डेढ़ वर्ष से कार्यरत हैं। वह पूर्व में प्रयागराज के जिला मजिस्ट्रेट के रूप में कार्यरत थे।

आपको बता दें टोक्यो में जारी पैरालंपिक खेलों में भारत ने 9 इवेंट्स के लिए 54 पैरा एथलीटों का सबसे बड़ा दल भेजा है। भारतीय खिलाड़ियों ने अब तक ऐतिहासिक प्रदर्शन करते हुए 10 मेडल देश के नाम कर दिए हैं। जिसमें अवनि और सुमित के गोल्ड मेडल भी शामिल हैं।