WTC final: विराट कोहली की सेना के लिए चिंता का सबब बना यह रिकॉर्ड, न्यूजीलैंड के पास इतिहास रचने का मौका

भारत और न्यूजीलैंड की टीमें टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में आमने-सामने होंगी। मौजूदा फॉर्म को देखते हुए भारत का पलड़ा भारी है, लेकिन विराट कोहली की सेना के पक्ष में नहीं है।

न्यूजीलैंड की टीम 6 साल में तीसरी बार आईसीसी टूर्नामेंट का फाइनल खेलेगी। (फोटो- Twitter/ICC)

भारत और न्यूजीलैंड के बीच टेस्ट क्रिकेट का ‘सबसे बड़ा मुकाबला’ 18 से 22 जून तक इंग्लैंड साउथम्पटन में खेला जाएगा। दोनों टीमें टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में आमने-सामने होंगी। मौजूदा फॉर्म को देखते हुए भारत का पलड़ा भारी है, लेकिन विराट कोहली की सेना के पक्ष में नहीं है। 2013 से अब तक आईसीसी के सभी टूर्नामेंट में कोई न कोई अलग चैंपियन बना है। ऐसे में न्यूजीलैंड की टीम इस रिकॉर्ड से काफी खुश होगी, क्योंकि वह इस दौरान एक भी टूर्नामेंट नहीं जीती है।

पिछले 8 साल में 6 आईसीसी टूर्नामेंट खेले गए हैं। 2013 से शुरू करें तो चैंपियंस ट्रॉफी में टीम इंडिया जीती थी। वह दूसरी बार चैंपियन बनी थी। इससे पहले टीम इंडिया 2002 में फाइनल में तो पहुंची थी, लेकिन बारिश के कारण मैच पूरा नहीं हो सका था। भारत और श्रीलंका को संयुक्त विजेता घोषित किया था। टीम इंडिया ने 2013 में अकेले इस खिताब को अपने नाम किया था। तब महेंद्र सिंह धोनी कप्तान थे। 2002 में सौरव गांगुली टीम इंडिया के कप्तान थे। वे बीसीसीआई के मौजूदा अध्यक्ष हैं।

इसके बाद 2014 में श्रीलंका की टीम पहली टी20 वर्ल्ड कप जीतने में सफल हुई थी। उसने फाइनल में 2007 की चैंपियन टीम भारत को हराया था। 2015 वर्ल्ड कप में ऑस्ट्रेलिया की टीम चैंपियन बनी थी। उसने पहली बार फाइनल में पहुंचने वाली न्यूजीलैंड की टीम को हराया था। 2016 में वेस्टइंडीज ने इंग्लैंड को हराकर टी20 वर्ल्ड कप का खिताब अपने नाम किया था। इसके बाद 2017 में पाकिस्तान की टीम चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल में भारत को हराकर चैंपियन बनी थी। 2019 में आईसीसी वर्ल्ड कप में इंग्लैंड पहली बार फाइनल जीता था। उसने न्यूजीलैंड को हराया था।

8 साल में यह तीसरा मौका है जब न्यूजीलैंड की टीम आईसीसी टूर्नामेंट के फाइनल में खेलेगी। 2015 और 2019 वर्ल्ड कप के फाइनल में उसे हार का सामना करना पड़ा था। केन विलियमसन की टीम इस बार खिताब अपने नाम कर इतिहास रचना चाहेगी। यह उसका दूसरा आईसीसी खिताब होगा। उसने साल 2000 में अपने नाम चैंपियंस ट्रॉफी का खिताब किया था। दूसरी ओर, विराट कोहली अपनी कप्तानी में पहली बार आईसीसी ट्रॉफी जीतने उतरेंगे।